Entertainment

इस खूबसूरत अभिनेत्री को जिन्दगी भर रहा इसका अफसोस

बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री में वैसे तो बहुत सी खूबसूरत अभिनेत्रियाँ है लेकिन गुजरे ज़माने की कुछ अभिनेत्रियों की जगह कोई भी नहीं ले सकता है. आज हम आपको एक खूबसूरत अभिनेत्री के बारे में बताने वाले है जिन्होंने अपने अभिनय से लोगों के दिलों पर राज किया है.

15 साल के करियर में 34 फिल्मों में से 29 सफल

जी हाँ हम बात कर रहे है अभिनेत्री साधना की. राज कपूर और नादिरा अभिनीत फिल्म श्री 420 के गाने “मुड़ मुड़ के देख मुड़ मुड़ के” में साधना लीड रोल में नहीं थी वो सिर्फ अलग रोल में थी लेकिन आगे चलकर फिल्म दूल्हा दुल्हन में यह खूबसूरत अभिनेत्री ना सिर्फ राज कपूर की हीरोइन बनीं, बल्कि बतौर हीरोइन 15 साल के करियर में उनकी 34 फिल्मों में से 29 फिल्में सफल भी रहीं है.

डायरेक्टर से हुआ साधना को प्यार लेकिन…

साधना के बारे में एक रोचक बात आपको बता दे कि वो अपनी पहली फिल्म ‘लव इन शिमला’ के डायरेक्टर आर.के. नैय्यर से शादी करना चाहती थीं, लेकिन उनकी मां को यह रिश्ता बिलकुल भी मंजूर नहीं था. कारण था कि नैय्यर सिंधी नहीं थे. हालांकि 1966 में राज कपूर के बीच-बचाव से दोनों विवाह की वेदी तक पहुंच गए, लेकिन नैय्यर के कॅरियर को डगमगाते देख साधना फिर से फिल्मों में आ गईं. इसी बीच साधना को थायराइड नामक बीमारी के इलाज के लिए बोस्टन जाना पड़ा, जहां से वापस आकर नैय्यर की ही निर्देशित ‘इंतकाम’ के जरिए उन्होंने जबर्दस्त सफलता प्राप्त की. इसके बाद संजय खान संग आई ‘एक फूल दो माली’ और राजेश खन्ना के साथ ‘दिल दौलत दुनिया’ भी सफल हुईं, पर तभी गर्भपात ने साधना को तोड़कर रख दिया.

आजीवन दो अफसोस

आपको बता दे कि भारतीय लड़कियों में चूड़ीदार पायजामा-कुर्ता और ‘साधना कट’ का फैशन देने का श्रेय इस खूबसूरत अभिनेत्री को ही जाता है. साधना के आजीवन दो अफसोस उल्लेखनीय है. पहला यह कि दिलीप कुमार के साथ पर्दे पर कभी न आ पाने का तो दूसरा यह कि ‘वो कौन थी’ और ‘वक्त’ के लिए बेस्ट एक्ट्रेस की कैटेगरी में नॉमिनेट होने के बाद भी उन्हें कभी ‘फिल्मफेयर’ अवॉर्ड नहीं मिला.