अजीबोगरीब धार्मिक परंपरा, 15 दिन तक लड़कियों को रखा जाता है बिना कपड़ों के साथ

देश में रीती-रिवाजों और धर्म के नाम पर कई ऐसी प्रथाएं है जिनके जाल से लोग निकल नहीं पा रहे है जबकि लोग ऐसी कई परंपराओं और रीती रिवाजों का आज भी पालन कर रहे है, जिन्हें आप जानकर आश्चर्य में पड़ जायेंगे. आज हम आपको एक ऐसी धार्मिक रिवाज के बारे में बताने जा रहे है जिन्हें जानकर आप हैरान हो जायेंगे. दरअसल  साउथ के कर्नूल में एक ऐसा गाँव है, जहाँ मर्द देर रात तक एक दुसरे को लात मारते रहते हैं. अब आप सोच रहे होंगे की भला बिना वजह कोई भी किसी को लात मरेगा लेकिन यह बात बिलकुल सही है.

तमिलनाडु की घटना 

इस गाव में धर्म के नाम पर यह सब होता है. कुछ समय पहले नवरात्री थी उन दिनों में मां दुर्गा की पूजा की गई थी. इस पूजा में एक मंदिर में पुरषों और स्त्रीयों को 15 दिन तक साथ रहने को मजबूर किया जाता है. इसका कोई ठोस कारण नहीं है. अब आप सोच रहे है इसका धर्म से क्या संबंध है आइये जानते है. यह मामला घटना तमिलनाडु के मदुरै मंदिर की है. इस मंदिर में मन्नत मांगने के लिए और यह रीती-रिवाज देखने लिए लोग दूर-दूर से आते है. तमिलनाडु के वेल्लोर में स्थित ‘Yezaikatha Amman‘ नामक मंदिर कुछ समय पहले बेहद चर्चा में रहा था.

अजीबोगरीब नियम

इस मंदिर में एक और अजीबोगरीब है जिसे जानकर आप हैरान हो जायेंगे. दरअसल, इस मंदिर के आसपास के गांव भी इस मंदिर के रीती-रिवाजों को मानते है. पूजा के दौरान दौरान इन गाँव में से 7 लड़कियों को देवी बनाया जाता है और उनके शरीर पर 15 दिनों तक कोई कपड़ा नहीं पहनाया जाता है.

 

इस खबर की जानकारियां हमने NewsTrend से ली गई  है और हमारा मकसद किसी की भावनायों को ठेस पहुँचाना नहीं है. यदि आपको खबर अच्छी लगे तो अपने दोस्तों और परिवार वालों को जरुर शेयर करें.