Reader's Choice

सर्दी-जुकाम से पाएं फटाफट राहत, इन पांच घरेलु उपायों से

इन दिनों ठंड का मौसम चल रहा है और इस मौसम में सर्दी और जुकाम की समस्या होना आम बात है. हमें या हमारे आस-पास रहने वाले कई लोगों ठंड के दिनों में सर्दी और जुकाम हो जाता है. हालाँकि अगर देखा जाएं तो यह कोई गंभीर बीमारी नहीं है, लेकिन जब किसी को सर्दी-जुकाम होता है तो उसे कई परेशानियों से गुजरना पड़ता है. ऐसे में कई लोग इससे छुटकारा पाने के लिए दवाइयों का सहारा लेते है. हालाँकि इस बीमारी में दवाईयों का असर भी कम ही देखने को मिलता है, ऐसे में घरेलू यानी देसी नुस्खे का इस्तेमाल भी आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है.

 

दूध और हल्दी

हल्दी एंटी वायरल और एंटी बैक्टेरियल होती है, जो सर्दी-जुकाम को दूर भगाने में काफी मददगार होती है. ऐसे में अगर आप भी सर्दी-जुकाम की समस्या से जूझ रहे हो तो एक गिलास गर्म पानी या दूध में एक चम्मच हल्दी मिलकर पी पिए. इस नुस्खे का इस्तेमाल बच्चे और बड़े दोनों कर सकते है.

 

अदरक की चाय

वैसे भी हमारे देश में सर्दी में लोग चाय कुछ ज्यादा ही पीते है और अगर चाय में अदरक हो तो फिर मजा ही आ जाएँ. वैसे बता दे कि अदरक चाय का स्वाद तो बढाती ही है, साथ ही सर्दी-जुकाम से राहत भी प्रदान करती है. सर्दी-जुकाम या फिर फ्लू को दूर भगाने के लिए एक कप गरम पानी या दूध ताजा अदरख को बिल्कुल बारीक कर मिला ले और फिर उसे गर्म थोड़ी देर गर्म करे. यह नुस्खा आपको सर्दी जुकाम से राहत पाने में तेजी से मदद करता है.

 

नींबू और शहद

सर्दी और जुकाम से राहत पाने के लिए नींबू और शहद का इस्तेमाल भी एक अच्छा विकल्प है. इसके लिए दो चम्मच शहद में एक चम्मच नींबू का रस एक ग्लास गुनगुने पानी या फिर गर्म दूध में मिलाकर पीए, इससे आपको जरुर फायदा होगा.

 

लहसुन

लहसुन भी सर्दी-जुकाम को दूर भगाने में आपकी मदद कर सकता है. दरअसल लहसुन में एलिसिन नामक एक रसायण पाया जाता है, जो एंडी बैक्टेरियल, एंटी वायरल और एंटी फंगल होता है. इसलिए लहसुन सर्दी-जुकाम को तेजी से दूर भगाती है. इसके लिए लहसुन की पांच कलियों को घी में भुनकर खाए. ऐसा एक या दो बार करने से ही आपको राहत मिलेगी.

 

तुलसी पत्ता और अदरख

तुलसी और अदरख के उपयोग से भी सर्दी-जुकाम से तुरंत राहत मिलती है. इसके लिए एक कप गर्म पानी में तुलसी की पांच-सात पत्तियां मिला ले और फिर उसमें अदरख के एक टुकड़े को भी डाल दे. इसके बाद उसे कुछ देर तक उबलने दे और उसका काढ़ा बना ले. जब पानी बिल्कुल आधा रह जाए तो इसे आप धीरे-धीरे पी ले.