Reader's Choice

मंदसौर घटना : वो एक फुदकती हुई चिड़िया की तरह फिर दिखाई दे…

मंदसौर : मंदसौर में सात साल की बच्ची के साथ हुई हैवानियत के दूसरे आरोपी को 5 दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है. शुक्रवार को दरिंदगी के मामले में दूसरे आरोपी की गिरफ्तारी हुई थी.बच्ची को अगवा कर उसके साथ कुछ वैसी ही बर्बरता बरती गई जो कि 2012 में निर्भया कांड में हुई थी. उसके प्राइवेट पार्टस में रॉड डालने से आंतों की सर्जरी हुई है. बच्ची का गला काटकर उसकी हत्या की भी कोशिश हो गई. इस मामले में सरकार फास्ट ट्रैक इंसाफ का भरोसा दिला रही है. गौरतलब है कि मंगलवार को स्कूल से लौट रही बच्ची को अगवा कर उससे गैंगरेप हुआ और फिर उसे मरा मानकर झाड़ियों में फेंक दिया गया

मुख्यमंत्री ने संतोष जताया

मुख्यमंत्री ने मंदसौर सामूहिक रेप काण्ड के दोनों आरोपियों को धरती पर बोझ करार देते हुए कहा कि उन्हें इस दुनिया में रहने का कोई हक नहीं है. शिवराज ने एमवाईएच में बच्ची के पिछले सात दिन से चल रहे इलाज पर संतोष जताया. उन्होंने कहा कि बच्ची की हालत में तेजी से सुधार हो रहा है. उसकी शिक्षा और उसके लालन-पालन से जुड़ी अन्य जिम्मेदारियां प्रदेश सरकार उठायेगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि रेप की बढ़ती घटनाओं पर रोक के लिए जरूरत इस बात की भी है कि समाज में संस्कारों को बढ़ावा दिया जाए. उन्होंने कहा, “आजकल कम उम्र के लड़के एडल्ट फिल्में देखकर गलत राह पकड़ लेते हैं. हम समाज को गंदी फिल्मों के खिलाफ जगाने का प्रयास करेंगे. इसके साथ ही बेटियों की मान-मर्यादा से जुड़ी विषय वस्तु को स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा.”

मध्य प्रदेश के गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने मंदसौर की घटना को शर्मनाक बताते हुए कहा है कि आरोपियों को पकड़ा जा चुका है. इनको फांसी की सजा मिले इसके लिए सरकार प्रयासरत है. इस मामले में जांच में पुलिस और स्कूल प्रबंधन की लापरवाही सामने आती है तो दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी.

गृहमंत्री ने कहा कि यदि कोई लापरवाही सामने आती है तो अधिकारी पर भी कार्रवाई होगी. अभी इस तरह की चूक सामने नही आई है. गृहमंत्री ने कहा कि ऐसे अपराधों से निपटने समाज को आगे आना पड़ेगा. समाज और कानून मिलकर दोषियों को सजा दिला सकते हैं.

उधर इस मामले में दूसरे आरोपी आसिफ को पांच जुलाई तक के लिए पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है। मासूम को न्याय दिलाने के लिए मंदसौर समेत पूरे मध्य प्रदेश में प्रदर्शन का सिलसिला जारी है। लोग पीड़िता की सलामती की दुआ कर रहे हैं। वहीं उसके माता-पिता से मंदसौर के सांसद का धन्यवाद प्रकट करवाने वाले भाजपा विधायक की आलोचना की जा रही है। वहीं रेप की शिकार बच्ची के पिता ने कहा, ‘मुआवजा नहीं चाहिए, आरोपियों को फांसी हो।’

बुधवार की शाम को गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह एमवाय अस्पताल पहुंचे। यहां वे आधा घंटा रुके। उन्होंने मंदसौर कांड की पीड़ित बच्ची के परिजन से मुलाकात की। मीडिया से चर्चा के दौरान उन्होंने कहा कि बलात्कार की घटनाएं प्रदेश ही नहीं, पूरे देश में हो रही हैं। इसके लिए पोर्न साइट सबसे अधिक जिम्मेदार है। इससे मानसिक विकृति पैदा हो रही है।

प्रदेश में 21 पोर्न साइट की बैन

बस्तियों की बच्चियां रेप का अधिक शिकार हो रही हैं। ऐसी घटनाएं रोकने के लिए सरकार ने प्रदेश में 21 पोर्न साइट को बैन किया है।

सरकार उठाएगी बच्ची का सारा खर्च

उन्होंने कहा कि बच्ची के बेहतर इलाज और भविष्य में पढ़ाई का खर्च सरकार उठाएगी। उन्होंने एमवाय अस्पताल के अधीक्षक से बच्ची के स्वास्थ्य की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि इंदौर में इलाज जारी है और यदि डॉक्टर कहते हैं तो विदेश में भी इलाज कराया जाएगा