8 वीं फेल लड़का बना करोड़ों का मालिक, सालाना टर्नओवर 1 करोड़ रुपये से भी ज्यादा

कहते है न कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती है. यह कहावत बिलकुल सही है यदि कोई भी इंसान ठान लें की कुछ बड़ा और हट के करना है तो वह कठिन से कठिन प्रयास करके अपनी मंजिल तक बिलकुल पहुँच ही जाता है फिर चाहे वह इंसान बच्चा हो या बुजुर्ग हो सफल जरुर होता है. आज हम बात कर रहे है एक 8वीं फेल लड़के की जिसने बहुत कम उम्र में दुनिया की ऊंचाईयों को छू लिया है.  जी हां यह बात बिलकुल सत्य है दरअसल, फेसबुक पेज ह्यूमन ऑफ बॉम्बे, पर एक ऐसे ही लड़के की कहानी ने बेहद सुखियों में रही है.

 

8वीं फेल त्रिशनित अरोरा

इस लड़के का नाम त्रिशनित अरोरा है जो कि साइबर सिक्यॉरिटी एक्सपर्ट है. सभी लोग कहते है बिना पढाई-लिखाई के बिना बड़ा बनना संभव नहीं है लेकिन छोटा त्रिशनित ने इस बात को गलत साबित कर दिया है. त्रिशनित की अमूल से लेकर रिलायंस और आइडिया जैसी कंपनियां  क्लाइंट हैं.

 

पिता पहेल त्रिशनित से रहते थे परेशान

जब त्रिशनित पहले दिन भर कंप्यूटर गेम खेलता था तो उसके पिता उससे बेहद परेशान रहते थे इस वजह त्रिशनित के पिता कंप्यूटर का पासवर्ड भी बदल देते थे लेकिन त्रिशनित हर रोज उसे हैक करके पासवर्ड खोल देता था. इसी प्रक्रिया के चलते त्रिशनित 8वीं फेल भी हो गया था. जब उसके पिता को यह अहसास हुआ की त्रिशनित की यह हरकत हुनकर बन सकती है तो उन्होंने त्रिशनित के लिए एक हाइटेक कंप्यूटर ला दिया.

 

फेल होने के बाद बदली जिंदगी

इस छोटे बच्चे की जिंदगी में असली बदलाव आया जब वह 8वीं फेल हो गया था. तब से ही त्रिशनित ने फैसला ले लिया था कि में अब पढाई को यही विराम दे रहा हूँ और कंप्यूटर की बारीकियों को सीखूंगा. त्रिशनित बहुत कम समय में साइबर सिक्यॉरिटी में एक्सपर्ट हो गए. त्रिशनित को साल की उम्र में पहला प्रोजेक्ट मिला जिसको पूरा करने पर 60 हजार रुपये का चेक मिला. यही से इस छोटे से लड़के को सफलता मिलनी शुरू हो गई थी और और देखते ही देखते वो कामयाबी उनके कदम चूमने लगी. आपको यह बात सुनकर काफी हैरानी होगी कि वर्तमान में त्रिशनित की कंपनी के 5 ऑफिस भारत में हैं और 1 ऑफिस दुबई में है. आज त्रिशनित का सालाना टर्नओवर 1 करोड़ रुपये से भी ज्यादा है.  हालांकि त्रिशनित अब ग्रैजुएट हो चुके हैं. उन्होंने डिस्टेंस लर्निंग से बीसीए किया है.