Reader's Choice

इंदौर में दर्दनाक स्कूल बस हादसा, सामने आई दिलदहलाने वाली तस्वीरें

Readers Choice

मध्यप्रदेश के इंदौर में एक दर्दनाक हादसे में 4 स्कूली बच्चों और ड्राईवर की मौत हो गई. शुरुआती जानकारी और स्थानीय मीडिया रिपोर्टों के अनुसार स्कूल प्रशासन और बस ड्राइवर की लापरवाही सामने आ रही है. एडिशनल एसपी मनोज कुमार राय के अनुसार स्टीयरिंग फेल होने से यह बस दूसरे लेन में चली गई. तभी उसकी सामने से आ रही ट्रक से जोरदार टक्कर हो गई. हादसे में 9 बच्चे घायल हो गए. बिचौली मर्दाना बायपास के पास बने ओवर ब्रिज के पास हुए इस हादसे को जिसने भी देखा उसकी रूह कांप गई. बस के परखच्चे उड़ हुए थे और बस ड्राइवर स्टेयरिंग पर फंसा तड़प रहा था. भीतर भी बस में खून से सने बच्चे दर्द से कराह रहे थे.

 

ऐसे हुआ हादसा

 

खबर के अनुसार दिल्ली पब्लिक स्कूल की बस शाम को छुट्‌टी के बाद बच्चों को छोड़ने उनके घर जा रही थी. इस दौरान बिचौली मर्दाना बायपास पर ब्रिज के पास अचानक बस के ब्रेक फेल हो गए और वह डिवाइडर से टकराकर दूसरी ओर ट्रक से जा भिड़ी. टक्कर इतनी भयानक थी कि बस का अगला हिस्सा बिखर गया था और ड्राइवर सीट पर ही चिप गया था. वहीं बस के भीतर का नजारा देख लोग कांप गए. आसपास मौजूद लोगों ने बच्चों को बाहर निकाला और एक अन्य स्कूल बस से घायल बच्चों को तुरंत स्कूल ले जाया गया.



 

दिखी मानवता

 

जैसे ही घायल बच्चों को अस्पताल ले जाया गया, खबर आई कि अस्पताल में B- और O+ ब्लड की सख्त जरूरत है. जैसे ही शहर के लोगों को इस बारे में जानकारी लगी, बड़ी संख्या में लोग रक्तदान करने के लिए अस्पताल पहुँच गए. बीजेपी के नेता कैलाश विजयवर्गीय ने भी ट्वीट कर घायल बच्चों के लिए ब्लड डोनेशन की मांग भी की है. कुछ ही समय में ब्लड की जरुरत पूरी हो गई और अस्पताल को घोषणा करनी पड़ी कि रक्त की जरुरत पूरी हो गई है.

 

परिजन करते रहे इंतजार

 

घटना के बाद परिजनों को इसकी कोई जानकारी नहीं थी. परिजन बच्चों का इंतजार करते रहे, लेकिन जब काफी समय के बाद भी बच्चे घर नहीं पहुंचे तो परिजनों ने स्कूल में फ़ोन किया, लेकिन उन्हें वहां से भी कोई जानकारी नहीं मिली. जब परिजनों दुसरे बस के ड्राईवर को फ़ोन किया तो उन्हें घटना की जानकारी मिली.

 

दान की आंखे

 

मरने वाले स्कूली बच्चे हरप्रीत कौर कुमार, श्रुति लुधियानी, स्वस्तिक पंड्या और कृतिका अग्रवाल शामिल हैं. वहीं मरने वाले ड्राइवर का नाम राहुल था. हादसे की शिकार हुई कृतिका नाम की स्टूडेंट के परिजनों ने एक साहस भरा फैसला लिया है. कृतिका के परिजनों ने बेटी की आंखें और स्किन डोनेट करने का फैसला लिया है. बेहद पीड़ादायक मौके पर परिजनों के इस फैसले के बारे में जो सुन रहा, वो दुआएं दे रहा. उनके इस फैसले के कोई जिंदगी रौशन होगी.

 

परिजनों में आक्रोश

 

इस घटना ने पूरे मध्यप्रदेश को हिला दिया. लापरवाही के इस मामले में कई बच्चों की मौत हो गई. पुलिस के अनुसार स्टेयरिंग फेल होने की वजह से हादसा हुआ. हालाँकि सड़क हादसे में बस चालक की गलती है या बस की तकनीकी समस्या, ये तो पूरी जांच के बाद ही साफ हो पाएगा. अस्पताल पहुंचे परिजनों ने स्कूल प्रशासन के खिलाफ गुस्सा प्रकट किया.

Scource

 

 

पढ़िए अन्य ख़बरें

AAP से उठा विश्वास, अब शहीद कुमार के पास बचे है यह 5 विकल्प

भीमा कोरेगांव की असली कहानी, जब 600 दलितों ने 28 हजार सैनिकों से किया युद्ध

राम रहीम से लेकर पद्मावती तक, इस साल खूब सुर्ख़ियों में रहे यह मामले