Reader's Choice

कर्ज से मुक्ति पाने के 7 अचूक उपाय

Readers Choice

ये एक कड़वा सच है कि हमारे देश में हर साल हजारों व्यक्ति कर्ज में दबे होने के कारण आत्महत्या जैसा कदम उठा लेते है. कर्ज लेते समय तो हमें अच्छा लगता है, लेकिन जब उसे चुकाने की बारी आती है तो हाथ पांव फुल जाते है. ऊपर से ब्याज के कारण कर्ज बढ़ता ही जाता है. कर्ज के कारण मनुष्य को तनाव, ब्लड प्रेशर, अवसाद जैसी बिमारियों से घिर जाता है. कर्ज में डूबे इंसान को होने वाली बिमारियों में से 30 प्रतिशत बीमारियां कर्ज को लेकर चिंता करने से होती है. ऐसे में आज हम आपको कर्ज से मुक्ति पाने के कुछ अचूक उपाय बताने जा रहे है, इन उपायों की मदद से आप आसानी से अपना कर्ज चूका सकते हो.

 

ज्यादा ब्याज को पहले खत्म करे

सबसे पहले तो आपके द्वारा लिए गए कर्ज की एक सूचि बना ले. जैसे- होम Loan, कार Loan, शिक्षा Loan. लोग अक्सर यह गलती करते है कि वह सभी चीजों की EMI समान रूप से भरते है, लेकिन ऐसा करना बेवकूफी होती है. दरअसल जिस लोग का Interest Rate यानी ब्याज दर कम है उसमें EMI के रूप में कम से कम रुपए जमा करे. वहीँ जिस Loan की Interest Rate ज्यादा है उसे जल्दी से जल्दी खत्म करने की कोशिश करे. मान लो आपने तीन Loan लिए हुए है और आप Loan की EMI के रूप में सभी में 5000 रुपए जमा करते हो तो ऐसा करने के बजाय जिस Loan का Interest Rate ज्यादा है, उसमे 10000 और बाकि 2 Loan में 2500-2500 रुपए जमा करे. इससे फायदा यह होगा कि 5000 रुपए EMI भरने पर अगर आपको 41 EMI भरनी पड़ रही है तो इस तरह आपको 2 लाख 5 हजार रुपए देना पड़ेंगे, वहीँ अगर आप EMI को दोगुना यानि 10000 कर देते हो तो आपको सिर्फ 13 EMI भरनी पड़ेगी, जिसका मूल्य होगा 1 लाख 30 हजार, यानि 75 हजार का फायदा.

 

बिना काम का समान बेच दे

सभी के घर में कुछ ऐसा समान होता है, जिसका हम सालों से उपयोग नहीं करते है. जैसे- पुराना फर्नीचर, पुराना मोबाइल, पुराना लैपटॉप, पुरानी टीवी, हीटर. अब आप इस सामानों को बेच दीजिए. इन चीजों को बेचने से आप अपनी 4-5 EMI आराम से भर सकते हो क्यों कि यह चीजें वैसे भी आपके काम नहीं आ रही है. ऐसे में इन्हें बेचकर आप कम से कम 3-4 EMI तो भर ही सकते हो.

 

खर्च कम करे

कर्ज को जल्दी खत्म करने के लिए हमें अपने खर्चे को भी कम करना होगा. इसके लिए आपके द्वारा महीने में किए जाने वाले खर्चों की सूचि बनाए और फिर सोचिए कि इस खर्चे को कितना कम किया जा सकता है. घूमना कम कर दीजिए, बाहर खाना कम कर दीजिए. ऐसा करने से आप अपने खर्चे में 30 प्रतिशत की कटौती कर सकते हो. अब बचे हुए पैसों को EMI में लगा दीजिए, जैसे अगर आप 10000 EMI भरते हो और खर्चे में कटौती करने के 2000 बचते है तो आप 12000 की EMI भरिये, इससे भी पैसे बचेंगे और कर्ज जल्दी खत्म होगा.

 

अतिरिक्त Income

अगर पति और पत्नी दोनों कमाई करते हो तो एक कमाई को घर खर्च और सेविंग के लिए उपयोग कीजिए, वहीँ दुसरे की कमाई को सिर्फ Loan भरने के लिए उपयोग कीजिए. अगर घर में एक ही व्यक्ति कमाता हो तो उस व्यक्ति को जब तक कर्ज से छुटकारा नहीं मिल जाता तब तक अपने काम के अलावा अतिरिक्त कमाई करने के लिए पार्ट टाइम कोई ओर काम करना चाहिए, ताकि आप जल्दी से जल्दी कर्ज से छुटकारा पा सको. आजकल कई ऐसे काम है, जिन्हें आप ऑफिस टाइम के बाद घर पर रहकर ही कर सकते हो और अतिरिक्त कमाई कर सकते हो.

 

अगर कर्ज लेना ही ना पड़े

जिस इन्सान पर कर्ज होता है, वह परेशान होता है. लेकिन कितना अच्छा हो अगर कर्ज लेना ही ना पड़े. इसके लिए आप अपनी कमाई का एक हिस्सा हर महीने जमा करके रखे. इसके लिए आप अपने पार्टनर के नाम से Bank Account खुलवा ले और हर महीने उसमे अपनी Saving जमा कीजिए. इसके अलावा कई तरीके है जहाँ आप अपना पैसा जमा कर सकते है. इन पैसे को सिर्फ इमरजेंसी में उपयोग किजिएँ.

 

पहले से तय करे Budget

कोशिश करे कि इस महीने हम कितना खर्च करने वाले है? क्या-क्या लाना है? कहाँ-कहाँ कितना खर्च होगा? इसकी एक सूचि तैयार कर ले. इसके लिए आप पिछले तीन-चार महीनों के खर्चे की एक सूचि बना ले. ऐसा करने से आप महीने में एक निश्चित राशी ही खर्च करोगे. बिना Budget बनाए खर्च करने से खर्च ज्यादा होता है.

 

अतिरिक्त पैसों से कर्ज चुकाए

अगर आपको कभी-भी अतिरिक्त पैसा मिलता है, जैसे- Tax Refund के रूप में, पुराना समान बेचकर, बोनस के रूप में या अन्य किसी भी रूप में. उस पैसे को घुमने-फिरने या फिर किसी भी अन्य कार्य में खर्च करने के बजाय सीधा कर्ज को खत्म करने में उपयोग कीजिए, क्यों कि चाणक्य ने कहा है कि ऋण, शत्रु और रोग को जितनी जल्दी हो समाप्त कर देना चाहिए.

Source :- Career Story.club

 

पढ़िए और भी मजेदार खबरें

चाणक्य नीति- मनुष्य को बर्बाद कर देती है यह तीन आदतें

किसी भी क्षेत्र में सफलता पाने के लिए करें यह 5 काम

नोटबंदी के बाद बदला देश का हाल