Reader's Choice

कांग्रेस की 5 गलतियां गुजरात चुनाव में पड़ेगी भारी, 3 खुद राहुल से हुई

New Delhi: AICC Vice President Rahul Gandhi interacts with street vendors at his residence in New Delhi on Saturday. PTI Photo by Atul Yadav(PTI3_15_2014_000126B)

गुजरात में चुनाव हो चूका है और 18 तारीख को चुनावों के नतीजे सामने आ जाएंगे. गुजरात में भाजपा पिछले 22 सालों से सत्ता में है. ऐसे में भाजपा को सत्ता से बेदखल करने के लिए कांग्रेस ने यहाँ पर आक्रामक प्रचार की शुरुआत की और सोशल मीडिया पर भी भाजपा को कड़ी टक्कर दी. विकास पागल हो गया है, जैसे नारों से भाजपा को परेशान कर दिया. हालाँकि जो कांग्रेस कुछ दिनों पहले गुजरात में कामयाब होती नजर आ रही थी, वह अब कामयाबी से दूर जाती नजर आ रही है. ओपिनियन पोल के अनुसार गुजरात में भाजपा फिर से वापसी करती नजर आ रही है या फिर यह कहें कि कांग्रेस ने खुद ही भाजपा को वापसी करने का मौका दे दिया. कांग्रेस ने गुजरात में 5 ऐसी बड़ी गलतियाँ कर दी है, जो अगर उसने नहीं की होती तो गुजरात चुनाव में उसका प्रदर्शन बेहतर होता. कांग्रेस की यह चार गलतियाँ गुजरात में उसके चुनाव जीतने के सपने को धूमिल कर सकती है.

 

 

गैर हिंदू रजिस्टर पर साइन

गुजरात में अपने प्रचार अभियान की शुरुआत करने के बाद से ही राहुल गाँधी वहां मंदिरों में पार्टी की हिन्दू विरोधी छवि को सुधारने में लगे है. वह गुजरात में 20 से ज्यादा मन्दिरों में जा चुके है. इसी क्रम में वह बीते दिनों सोमनाथ मंदिर पहुँचे तो उस दौरान उन्होंने उस रजिस्टर में हस्ताक्षर कर दिए जो ग़ैर-हिंदू दर्शनार्थियों के लिए रखा गया था. भाजपा तो पहले से ही राहुल गाँधी के धर्म को लेकर सवाल उठाती रही है, ऐसे में राहुल ने भाजपा को बैठे-बिठाए एक बड़ा मौका दे दिया.

 

शाखा में महिलाओं को शॉर्ट्स में देखा है?

दूसरी बड़ी गलती भी राहुल गाँधी से हुई है. दरअसल उन्होंने वडोदरा की रैली में RSS पर हमला बोलते हुए कहा है कि, “क्या आपने कभी RSS की शाखा में महिलाओं को देखा है शॉर्ट्स में?” इस बयान के लिए राहुल गाँधी की काफी किरकिरी हुई थी. भाजपा ने इसे संस्कृति से जोड़ते हुए कांग्रेस पर जोरदार हमला बोला था. गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल के अनुसार “राहुल ने गुजरात की महिलाओं का अपमान किया है. आप अपने शब्द वापस लें और महिलाओं से माफी मांगें.”

 

 

चाय बेचने वाला

तीसरी बड़ी गलती यूथ कांग्रेस ने की. दरअसल कांग्रेस की मैगज़ीन ‘युवा देश’ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए उन्हें चाय बेचने वाला दिखाया था. अब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तो संवाद कला में माहिर है, उन्होंने इसे गुजरात के बेटे का मजाक बताया. साथ ही कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि- “हां मेने चाय बेचीं है, देश नहीं.”

 

हाफिज सईद की रिहाई पर राहुल का ट्वीट

बीते दिनों जब मुंबई हमले के गुनहगार हाफिज सईद को पाकिस्तानी अदालत ने रिहा कर दिया था तो राहुल गाँधी ने नरेन्द्र मोदी पर हमला करते हुए कहा था कि, ‘नरेंद्रभाई, बात नहीं बनी. आतंक का मास्टरमाइंड आजाद है. ट्रम्प ने पाक सेना को लश्कर की फंडिंग में क्लीन चिट दे दी है. गले लगाने की पॉलिसी नाकाम हो गई. फौरन और गले लगाने की जरूरत है’. राहुल गाँधी का यह ट्विट भी कांग्रेस के लिए भारी साबित हुआ. मोदी ने अपनी रैली में इस मुद्दे को उठाते हुए कहा कि, “पाकिस्तान में आतंकी हाफिज सईद रिहा हुआ तो कांग्रेस खुश हुई.”

 

नीच बयान

चुनाव में वोटिंग से ठीक पहले कांग्रेस के नेता मणिशंकर अय्यर ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लिए ‘नीच’ शब्द का उपयोग कर कांग्रेस को मुसीबत में डाल दिया. हालाँकि बाद में मणिशंकर ने माफ़ी भी मांग ली और कांग्रेस ने मणिशंकर पर कार्यवाई भी की, लेकिन प्रधानमंत्री और भाजपा ने उस बयान का भरपूर फायदा उठाया और उसे गुजरती अस्मिता से जोड़ दिया.

 

यह वह 5 बड़े कारण है, जिनकी वजह से गुजरात में कांग्रेस के लिए बन रही हवा रूकती नजर आ रही है. हालाँकि कांग्रेस के लिए ये कितना नुकसानदायक होगा ये फैसला जनता के द्वारा अगले महीने की 18 तारीख को दे दिया जायेगा.

 

पढ़िए और भी मजेदार ख़बरें

EVM का रोना रोने वालों एक बार आंकड़े देख लो, आँखे खुल जाएगी

बीजेपी की जीत का कारण बनेगा हार्दिक काण्ड

नोटबंदी के बाद बदला देश का हाल