Reader's Choice

नोटबंदी के बाद बदला देश का हाल

Reader’s Choice :-

 

8 नवम्बर रात करीब 8 बजे पूरे देश संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नोटबंदी का एलान किया. इस नोटबंदी के तहत 1000 और 500 के नोट को देश में पूरी तरह बंद करने की घोषणा कर दी गई. जहाँ शुरुआत में इसको लेकर आम जनता के बिच आक्रोश दिखा वहीँ विपक्षीय पार्टियों ने भी प्रधानमंत्री मोदी के इस फैसले पर नाराजगी जाहिर की. लेकिन समय के साथ सब कुछ ठीक होता चला गया. आज नोटबंदी को एक साल से भी ज्यादा का समय हो चूका हैं और आज आम जनता से लेकर अर्थशास्त्र के जानकार भी नोट्बंदी की तारीफ कर रहे हैं. आइये जानते हैं नोटबंदी से जुड़े फायदे और आपको बताते हैं किस तरह से नोटबंदी के बाद बदली देश की तस्वीर.

 

महंगाई पर लगी लागाम

नोटबंदी के बाद देश को जो सबसे बड़ा फायदा हुआ वह था महंगाई पर लगाम. नोटबंदी के बाद जहाँ पूरे देश में सरकार ने अवैध पैसो और काले धन के लेनदेन पर अपनी पैनी नजर रखी. वहीं इस तरह की गतिविधियों की रोकथाम करते हुए इस समस्या को आड़े हाथ लिया. जिसका फायदा यह हुआ कि देश में महंगाई दर कम हुई.

 

डिजिटल ट्रांजैक्‍शन को मिला बढ़ावा

नोटबंदी के बाद डिजिटल ट्रांजैक्‍शन को काफी बढावा मिला, आम जनता ने कैश की किल्लत होने के चलते कैशलेस ट्रांजेक्शन का काफी मात्रा में उपयोग किया. इसके चलते आम जनता के बिच डिजिटल ट्रांजैक्शन बड़ा. सरकार ने भी देश की जनता को इस कैशलेस ट्रांजैक्शन के लिए प्रोत्साहित किया, धीरे धीरे हर उम्र हर तपके का व्यक्ति डिजिटल इण्डिया की इस मुहीम से जुड़ गया.

 

सस्ते हुए होम लोन

नोटबंदी के बाद आम आदमी के लिए होम लोन लेना काफी आसन हो गया. नोटबंदी के चलते होम लोन काफी सस्ते हो गए. इसके पीछे का कारण कैशलेस ट्रांजैक्शन था, नोटबंदी के चलते बैंको में बड़ी मात्र में धन जामा किया गया, जिसके चलते बैंको ने भी आम जनता को सुविधाए देते हुए सस्ती दरो पर बड़ी मात्रा में लोन दिया.

 

अर्थव्यवस्था को मिली मजबूती

जहाँ नोटबंदी के चलते आम जनता को फायदा हुआ वहीं देश की अर्थव्यवस्था में भी काफी मजबूती हैं. नोटबंदी के बाद बैंको में जमा होने वाले डिपोजिट में बढोतरी हुई, जिसके चलते भारत की अर्थवयवस्था को भी काफी मजबूती मिली. नोटबंदी के बाद अर्थ्वयास्था में 7 फीसदी से ज्यादा की मजबूती देखने को मिली. भारत की अर्थवयवस्था को मिली मजबूती से विश्व में मौजूद सभी देशो को हैरानी हुई और अन्तराष्ट्रीय स्तर पर भारत की खूब वाह वाही हुईं.

 

नकली नोटों पर लगी रोक

नोटबंदी के बाद नकली नोटों पर लागाम लगी हैं. देश में एक सबसे बड़ी समस्या बन चुके नकली नोट के व्यवसाय पर नोटबंदी के बाद रोक लगी हैं. इसके पीछे का कारण नए नोटों पर मौजूद उच्च गुणवत्ता के सिक्योरिटी सिस्टम हैं, जिनके कारण नकली नोटों के व्यवसाय पर पूरी तरह रोक लगी हैं. और नकली नोटों पर लगी लगाम आम जनता और सरकार के लिए काफी सुकून भरी हैं.

 

ये भी पढ़े 

GST लायी सरकार, देश में छाई बहार

चाणक्य नीति- मनुष्य को बर्बाद कर देती है यह तीन आदतें

जानिए क्या होता है जौहर, क्यों महिलाएं खुद को कर लेती थी भस्म