Reader's Choice

28 जवानों की शहादत के बदले भारतीय सेना ने मार गिराए पाक के 138 जवान

भारत और पाकिस्तान के बीच इस समय सीमा पर युद्ध जैसी स्थिति है. पाकिस्तान आए दिन सीमा पर सीजफायर का उल्लंघन करता रहता है, जिसके बाद भारतीय सैनिक उन्हें करारा देते है. 2017 में पूरे साल सीमा पर तनाव बना रहा और फायरिंग होती रही. हाल ही में सामने आई एक रिपोर्ट के अनुसार भारतीय सेना ने 2017 में 138 पाकिस्तानी सैनिकों को मार गिराया और 158 लोगों को घायल किया, हालांकि इस दौरान भारत के 28 जवान शहीद हुए और 70 जवान घायल हुए. यह आंकड़े जम्मू-कश्मीर में एलओसी पर गोलीबारी में हुई मौतों के हैं. एक न्यूज एजेंसी ने बुधवार को सरकारी खुफिया सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी है.

सैनिकों को बताता है आम नागरिक

न्यूज एजेंसी ने खुफिया सूत्रों के हवाले से बताया कि पाकिस्तान अमूमन अपने सैनिकों की मौत की पुष्टि नहीं करता और कुछ मामलों में तो इन्हें आम लोगों की मौत के तौर पर बताता है. यह उसकी पॉलिसी जान पड़ती है. कई बार तो पाकिस्तान, भारत को सबूत नहीं देने के इरादे से अपने जवानों के शव को लेने से ही मना कर देता है. करगिल की जंग के वक्त वह ऐसा कर चूका है.

पहले माना फिर किया इंकार

कुछ दिनों पहले 25 दिसम्बर को भारतीय जवानों ने LOC पार करके पाकिस्तान के 3 सैनिकों को मार गिराया. इस घटना को लेकर पाकिस्तानी आर्मी ने ट्वीट कर उसके 3 सैनिकों के मारे जाने की पुष्टि की, लेकिन बाद में ट्वीट डिलीट कर दिया और फिर सैनिकों के मारे जाने की ख़बरों को ख़ारिज कर दिया.

स्नाइपर फाइरिंग

सूत्रों ने बताया कि भारतीय सेना ने एलओसी पर स्नाइपर फाइरिंग में 27 पाक सैनिकों को मारा, जबकि पाकिस्तान की ओर से की गई ऐसी कार्रवाई में 7 भारतीय सैनिक मारे गए. भारतीय सेना लगातार कोशिश में है कि पाकिस्तानी सेना और आतंकियों के गठजोड़ का मजबूती से सामना किया जाए. अफसर के मुताबिक, 2017 में पाकिस्तानी सेना ने 860 बार सीजफायर वॉयलेशन किया. 2016 में उसने 221 बार सीजफायर वॉयलेशन किया था.