Reader's Choice

2017 के यह 5 मैच जिन्हें कभी याद नहीं करना चाहेगी टीम इंडिया

भारतीय क्रिकेट टीम के लिए साल 2017 शानदार रहा है. इस साल भारतीय क्रिकेट टीम ने 17 सीरीज खेली, जिसमे से 14 सीरीज भारतीय टीम के नाम रही, वहीँ 2 सीरीज हारी और एक ड्रा हुई. हालाँकि यह साल टीम इंडिया के लिए भले ही सबसे सुनहरा साल रहा हो, लेकिन 5 ऐसे मैच भी है जिन्हें टीम इंडिया और उनके प्रशंसक शायद कभी याद नहीं रखना चाहेंगे.

चैंपियंस ट्रॉफी का फाइनल

यह मैच तो ऐसा है जिसे कोई भारतीय टीम का प्रशंसक याद नहीं रखना चाहेगा क्यों कि पाकिस्तान से हारना वैसे भी किसी भारतीय खेल प्रेमियों को पसंद नहीं आता और खासकर वो कोई बड़ा मुकाबला हो. टूर्नामेंट से पहले कमजोर मानी जा रही पाकिस्तान टीम ने उलटफेर करते हुए चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में भारत को 180 रन के बड़े अंतर से हराकर चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब जीता.

धर्मशाला वनडे

भारत ने भले ही इस साल श्रीलंका से दो-दो बार वनडे सीरीज जीती हो, लेकिन 10 दिसंबर का धर्मशाला वनडे किसी बुरे सपने जैसा था. इस मैच में भारतीय टीम पहले बल्लेबाजी करते हुए 38.2 ओवर में महज 112 रन पर ढेर हो गई. टीम के 8 बल्लेबाज तो दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू सके. श्रीलंका ने 7 विकेट और 176 गेंद रहते ही ये मुकाबला बड़ी आसानी से जीत लिया.

पुणे टेस्ट

पुणे में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला गया टेस्ट मैच भी भारतीय टीम के लिए किसी बुरे सपने से कम नहीं था. इस टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 260 रन बनाए जिसके जवाब में भारतीय टीम 105 पर ही ऑलआउट हो गई जबकि दूसरी पारी में भारत महज 107 रन बना सका. यह मैच ऑस्ट्रेलिया ने 333 रनों से जीता.

गुवाहाटी टी-20

भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी-20 में भी करारी हार का सामना करना पड़ा था. मैच में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए मात्र 118 रन बनाए, जिसके जवाब में ऑस्ट्रेलिया ने 27 गेंद रहते ही बड़ी आसानी से लक्ष्य हासिल किया.

कोटला टेस्ट

कोटला में श्रीलंका के खिलाफ खेला गया टेस्ट मैच भारतीय टीम अपने प्रदर्शन की वजह से नहीं बल्कि फॉग की वजह से याद नहीं रखना चाहेगी. मैच में फॉग की वजह से श्रीलंकाई खिलाड़ी मैदान पर मास्क पहने फील्डिंग करने उतरे. मैच कुछ देर तक बाधित भी रहा, जिसके बाद ग्लोबल मीडिया में ये मुद्दा काफी छाया रहा.