Reader's Choice

शराब नहीं पिएंगी आने वाली पीढ़ियां, यह लेगा शराब की जगह

Readers Choice

नशा करना एक ऐसी परम्परा है जो सदियों से चली आ रही है. प्राचीन काल में भी राजा-महाराजाओं या फिर अन्य लोगों द्वारा नशा करने का जिक्र मिलता है. वर्तमान समय में भी .नशा करने के कई सारे मादक पदार्थ प्रचलन में है. शराब, व्हिस्की, रम, बीयर, महुआ और हंडिया जैसे मादक पदार्थों का सेवन कई लोग नशे के लिए करते है. हालाँकि सभी मादक पदार्थों को सामाजिक मान्यता नहीं है. इन्हें बुरा माना जाता है, लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि आने वाली पीढ़ी नशे के लिए क्या करेगी. चलिए हम आपको भविष्य में उपयोग होने वाले मादक पदार्थो के बारे में जरुरी जानकारी दे देते है

.

 

सिंथेटिक अल्कोहल

दरअसल हाल ही में एक टॉप साइंटिस्ट ने दावा किया है कि आने वाले 10 या 20 सालों में एल्कोसिंथ नाम का सिंथेटिक अल्कोहल असली शराब की जगह ले लेगा. वैज्ञानिक का कहना है कि अगली पीढ़ी शराब छोड़ कर सिंथेटिक अल्कोहल की तरफ बढ़ने लगेगी. इस सिंथेटिक अल्कोहल को पीने का असर तो वैसा ही होगा लेकिन ये स्वास्थ्य के लिए बिलकुल भी हानिकारक नहीं होगी. गौरतलब है कि अभी हम जिन मादक पदार्थो का सेवन करते है, उसके कई हानिकारक प्रभाव हमारे शरीर पर पड़ते है.

 

सिगरेट की जगह ई-सिगरेट्स

लंदन के इम्पिरियल कॉलेज के प्रोफेसर डेविड नट ने कहा कि शराब ही नहीं बल्कि आने वाले समय में सिगरेट और तम्बाकू की जगह भी ई-सिगरेट्स ले लेंगी. उनके मुताबिक, ‘आने वाले 10 से 20 सालों में ये बदलाव आ सकता है. वेस्टर्न सोसाइटीज शराब नहीं पिएंगी. प्रो. नट का वेंचर एल्केयरले इसके लिए 12 मिलियन डॉलर का निवेश कर रहा है, ताकि हैंगओवर फ्री शराब ब्रिटेन, यूएस, ईयू EU और कनाडा के मार्केट तक पहुंच सके.

 

पढ़िए और भी मजेदार ख़बरें

डर्टी पॉलिटिक्स- राजनीति चमकाने के लिए आदिवासी बेटियों को किया बेआबरू

महिलाओं के ये 5 सीक्रेट, जो वह अक्सर अपने पति से छिपाती है

क्या ठंड में आपके जोड़ों में भी होता है दर्द, ऐसे पाएं राहत