Reader's Choice

राहुल गांधी ने गैर हिन्दू बन की सोमनाथ मंदिर में एंट्री, बढ़ा विवाद

Reader’s Choice

राहुल गाँधी का गुजरात दौरा एक बार फिर से सुर्ख़ियों में आ गया है. दरअसल राहुल गाँधी ने आज एक ऐसा काम कर दिया है, जिससे गुजरात की राजनीती में भूचाल आना तय है. कहीं ऐसा न हो कि गुजरात चुनाव में कांग्रेस को राहुल गाँधी की यह गलती भारी पड़ जाएं. दरअसल हुआ यह कि राहुल गाँधी बुधवार को प्रसिद्ध सोमनाथ मंदिर में दर्शन करने पहुंचे. इस दौरान राहुल गाँधी ने ग़ैर-हिंदू दर्शनार्थियों के लिए रखे रजिस्टर पर हस्ताक्षर कर दिए. दरअसल, सोमनाथ के मंदिर में ग़ैर-हिंदू दर्शनार्थियों के लिए एक रजिस्टर रखा गया है, जिसमें गैर हिंदू लोग हस्ताक्षर करते है. बुधवार को सोमनाथ मंदिर में दर्शन करने गए राहुल और अहमद पटेल ने उस रजिस्टर में साइन कर दिया. इसके बाद से ही राहुल गाँधी के विरोधियों को उन पर हमला करने का मौका मिल गया.

 

धर्म को लेकर उठने लगे है सवाल

राहुल गाँधी की इस गलती के बाद लोग उनके धर्म को लेकर सवाल उठाने लगे है. विरोधी कहने लगे है कि इस साइन से वो सबूत सामने आ गया है, जो राहुल के ग़ैर-हिंदू होने का प्रमाण देता है. गौरतलब है कि यह पहला मौका नहीं है, जब राहुल गाँधी के धर्म को लेकर सवाल उठे है. उनके विरोधी अक्सर उनके धर्म को लेकर सवाल उठाते रहे है. राहुल के अलावा उनकी मां और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के धर्म को लेकर भी ऐसी ही आपत्तियां जताई जाती रही हैं.

 

कैसे हुई गलती

वैसे राहुल गाँधी ने यह जानबूझकर किया, इसकी उम्मीद कम ही है क्यों कि राहुल बार-बार अपने हिंदू होने की बात कहते रहे हैं और उन्होंने चुनाव के वक्त जमा किए गए शपथ पत्रों में भी उन्होंने खुद को हिंदू ही बताया है. हुआ यह कि जब राहुल गाँधी और अहमद पटेल वहां पहुंचे तो सोमनाथ मंदिर की ओर से कहा गया कि जो गैर मुस्लिम है वो अलग रजिस्टर में साइन कर दें, तो कांग्रेस के मीडिया कोऑर्डिनेटर ने अहमद पटेल और राहुल गांधी का नाम बता दिया. जिसके बाद दोनों से रजिस्टर में हस्ताक्षर करने के लिए कहा गया. अब यह गलती भूलवश हुई हो या फिर मीडिया कोऑर्डिनेटर की अज्ञानता से, लेकिन भाजपा के नेताओं को राहुल पर हमले करने का मौका मिल ही गया है.

 

सुब्रह्मण्यम स्वामी ने उठाया था सवाल

राहुल गाँधी के धर्म को लेकर इससे पहले भी कई बार सवाल उठ चुके है. बीते दिनों जब राहुल गांधी ने गुजरात में लगातार मंदिरों का दौरा शुरू किया था, तो उनके धर्म को लेकर सवाल उठने शुरू हो गए थे. बीजेपी नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने राहुल को लेकर कहा था कि, ‘पहले उन्हें साबित करना चाहिए कि वह हिन्दू है. मुझे शक है कि वो ईसाई हैं और 10 जनपथ के अंदर एक चर्च है’.

पढ़िए और भी मजेदार खबरें

इस उंगली से भूलकर भी नहीं लगाए तिलक, यह उंगली के प्रयोग से होती है असमय मृत्यु

मासिक धर्म के दौरान महिलाओं को मंदिर में जाना क्यों निषेध है, जानिए इसका कारण

इस चमत्कारी मंदिर में पानी से जलते है दीपक, इस अनोखें मंदिर के बारे में जरुर जानें !