Reader's Choice

राम रहीम से लेकर पद्मावती तक, इस साल खूब सुर्ख़ियों में रहे यह मामले

संजय लीला भंसालीसाल 2017 खत्म होने वाला है और साल 2018 शुरू होने वाला है. साल 2017 हमारे देश के लिए कई सफलताएं लेकर आया, कई ऐसे फैसले हुए जो ऐतिहासिक रहे. कई घटनाएं ऐसी हुईं जो आने वाले साल में भी चर्चा में रहेंगी. आज हम आपको 2017 में होने वाली 5 सबसे कॉन्ट्रोवर्सीज के बारे में बताने जा रहे है, जो साल 2017 में खासी चर्चा में रही है.

राम रहीम केस

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को रेप के मामले में दोषी करार दिए जाने के बाद सड़कों पर अंध भक्तों ने जमकर बवाल मचाया. इस दौरान 38 लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा. इस मामले में हरियाणा सरकार के भी काफी किरकिरी हुई थी.

प्रद्युम्न के मर्डर केस

8 सितंबर को गुड़गांव के रेयान स्कूल में पढ़ने वाले सात साल के छात्र प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या हुई थी. धारदार हथियार से गला रेंतकर प्रद्युम्न की हत्या की गई थी. सीसीटीवी फुटेज में प्रद्युम्न टॉयलेट से बाहर रेंगकर आता हुआ नजर भी आ रहा था. इस मामले के सामने आने के बाद हडकम्प मच गया था. पुलिस ने इस मामले में आनन फानन में बस कंडक्टर अशोक को गिरफ्तार किया और उसे इस घटना का जिम्मेदार माना. लेकिन बाद में सीबीआई ने बड़ा खुलासा करते हुए 11वीं के एक छात्र को प्रद्युम्न की हत्या के जुर्म में गिरफ्तार किया.

कुंबले-कोहली विवाद

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली और कोच अनिल कुंबले के बीच हुए विवाद ने भी इस साल काफी सुर्खियाँ बटोरी. इस विवाद के कारण कुंबले को कोच का पद छोड़ना पड़ा और फिर बाद में रवि शास्त्री टीम इंडिया के नए कोच बने.

पद्मावती विवाद

संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती को लेकर इस साल काफी विवाद हुआ. राजपूत समाज से जुड़े लोगों ने इस फिल्म में रानी पद्मावती के चरित्र से छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया. करनी सेना सहित कई संगठन खुलकर इस फिल्म के विरोध में आ गए. कई राज्यों की सरकारों ने भी फिल्म की रिलीज पर रोक लगा दी, जिसके बाद फिल्म की रिलीज डेट आगे बढ़ानी पड़ी. हालाँकि हाल ही में सेंसर बोर्ड द्वारा फिल्म पद्मावती को U/A सर्टिफिकेट देने की बाद सामने आई है.

तीन तलाक

इस साल तीन तलाक को लेकर भी काफी विवाद रहा. इस मामले को लेकर खूब राजनीति भी हुई. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में एक साथ तीन तलाक देने पर रोक लगा दी, वहीँ हाल ही में केंद्र सरकार इस मामले पर एक बिल लेकर आई. इस बिल को लोक सभा में मंजूरी मिल चुकी है.