Religious

लोग मानेंगे आपकी सारी बात, वशीकरण के लिए अपनाएं चाणक्य का ये तरीका

सभी चाहते है कि लोग उनकी बात सुने, उनके वश में रहे, लेकिन ऐसा संभव नहीं होता है. किसी को अपने वश में करना आसान काम नहीं है. अगर आप किसी व्यक्ति को अपने वश में करना चाहते हो तो इस संबंध में आचार्य चाणक्य ने एक नीति बताई है. मौर्य साम्राज्य के संस्थापक चाणक्य को कुशल राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ, प्रकांड अर्थशास्त्री के रूप में जाना जाता है. वह इतिहास के सबसे विद्वान व्यक्तियों में से एक है. आज सदियाँ गुजर गई, लेकिन उनके द्वारा कहीं गई बातें आज के समय में भी उतनी ही प्रासंगिक है, जीतनी उस समय थी. चाणक्य ने उस समय अर्थशास्त्र का निर्माण किया था. कौटिल्य ने सामान्य जन के कल्याण के लिए ऐसी नीतियों का निर्माण किया जो वर्तमान के समय में बहु उपयोगी होती जा रही है. चाणक्य ने उस दौर में बताया था कि लोगों को कैसे अपने वश में किया जा सकता है.

आचार्य चाणक्य ने कहा है कि हमारे आस-पास कई तरह के लोग रहते है. जैसे- लालची, घमंडी, मुर्ख या फिर विद्वान और समझदार. सभी को अपने वश में करने का अलग-अलग तरीका है. आइये जानते है उन तरीकों के बारे में.

लालची व्यक्ति

आचार्य चाणक्य का कहना है कि अगर हमें ऐसे व्यक्ति को अपने वश में करना है, जो लालची हो तो उसके लिए आपको थोड़े पैसे खर्च करने होंगे. चाणक्य के अनुसार लालची व्यक्ति को पैसा देकर वश में किया जा सकता है.

घमंडी व्यक्ति

आचार्य चाणक्य के अनुसार घमंडी व्यक्ति को अपने वश में करने के लिए उनके सामने हाथ जोड़कर या उन्हें उचित मान-सम्मान देकर वश में किया जाना चाहिए.

मुर्ख व्यक्ति

आचार्य चाणक्य ने कहा है कि किसी मूर्ख व्यक्ति को वश में करने के लिए वह जैसा-जैसा बोलता हैं, हमें ठीक वैसा ही करना चाहिए. झूठी प्रशंसा से मूर्ख व्यक्ति वश में हो जाता है.

विद्वान और समझदार व्यक्ति

चाणक्य ने कहा है कि विद्वान और समझदार व्यक्ति को अपने वश में करना बहुत मुश्किल है. हालाँकि अगर हम विद्वान और समझदार व्यक्ति के सामने सिर्फ सच ही बोलेंगे तो वह आपके वश में हो सकते है.

Source:- Bhaskar