Religious

नजर आने लगे यह लक्षण तो समझ लो नजदीक है कलयुग का अंत

Religious

हिन्दू धर्म के ग्रंथों में बताया गया है कि जब कलयुग समाप्ति के नजदीक होगा, उससे पहले भगवान स्वयं अवतार लेकर सभी अधर्मियों का नाश करेंगे और पृथ्वी पर फिर से धर्म की स्थापना करेंगे. श्रीमद्भागवत में कहा गया है कि भगवान विष्णु पृथ्वी से अधर्म का नाश करने के लिए कल्कि अवतार के रूप में आएंगे और मात्र तीन दिनों में कलियुग का अंत करके फिर से धर्म की स्थापना कर देंगे. दरअसल हिन्दू धर्म की मान्यताओं के अनुसार कलयुग की शुरुआत ईसा से लगभग 3102 साल पहले हुई थी. जैसे-जैसे कलयुग आगे बढेगा, वैसे-वैसे दुनिया में पाप बढ़ता जाएगा और दुनिया तबाह हो जाएगी. श्रीमद्भागवत के अनुसार भगवान विष्णु के अपना अंतिम अवतार यानी कल्कि अवतार लेने के पहले ही कुछ ऐसे लक्षण दिखाई देंगे जो असामान्य होंगे.

 

 

कम हो जाएगी मनुष्य की आयु

समय के साथ-साथ मनुष्य की औसत आयु कम हो रही है. मान्यताओं के अनुसार कलयुग के अंत तक मनुष्य की औसत आयु मात्र 20 वर्ष होगी. मनुष्य 16 वर्ष की आयु में बुढा हो जाएगा. वैसे भी हम अभी भी देख रहे है कि मनुष्य की औसत आयु कम हो रही है और बच्चे बहुत जल्दी परिपक्व हो जाते है.

 

नरभक्षी हो जाएगा मनुष्य

कलयुग के अंत तक धरती पर कुछ भी उगना बंद हो जाएगा, जिसके फलस्वरूप सभी मनुष्य मांसाहारी हो जाएँगे. गाय और भैस दूध देना बंद कर देगी और मनुष्य को बकरी का दूध पीना पड़ेगा. पेड़ों पर फल लगने भी बंद हो जाएंगे.

 

 

प्राकृतिक आपदा और महाप्रलय

गीता और महाभारत में भी इसका वर्णन है कि जैसे-जैसे कलयुग आगे बढ़ रहा है, महाप्रलय नजदीक आ रहा है. उस समय बहुत लम्बे समय तक सुखा पड़ेगा और फिर भारी बारिश होगी. इससे धरती जल मग्न हो जाएगी और लोग डूबकर मर जाएँगे. इसके बाद एक साथ 12 सूरत निकलेंगे, जिससे धरती सुख जाएगी और इंसान का नामोनिशान मिट जाएगा. कई ग्रन्थों में लिखा है कि पृथ्वी का विनाश पानी से नहीं बल्कि गर्मी से होगा.

 

अधर्मी हो जाएँगे स्त्री और पुरुष

ग्रन्थों के अनुसार कलयुग में एक समय ऐसा भी आएगा जब स्त्री और पुरुष अधर्मी हो जाएँगे. महिलाऐं पतिव्रत धर्म का पालन करना बंद कर देगी, वहीँ पुरुष भी ऐसा ही करेंगे.

 

पढ़िए और भी मजेदार ख़बरें

इस दिन जल चढ़ाने से आती है दरिद्रता, जानिए पीपल का धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व

दिन भर भगवान का नाम लेने से भी नही मिलेंगे भगवान, पढ़िए ये रोचक कथा

चाणक्य नीति: इस अवस्था में जहर के समान होती है सुंदर स्त्री