Religious

शनिदेव की नजर पड़ते ही कट गया था गणेश जी का शीश, जानिए अनसुनी कथा

Religious :-

 

हमारे पौराणिक ग्रंथो में ऐसी बहुत सी कथाये हैं जिनके विषय में हम नहीं जानते,वहीं कुछ कथाओ को लेकर पुराणों में अलग अलग उल्लेख मिलता हैं. ऐसा ही कुछ अलग उल्लेख भगवान् श्री गणेश के गज मुख को लेकर भी मिलता हैं. जहाँ मूल कथा के अनुसार माता पार्वती ने बालक की आकृति बनाकर उसमे प्राण दाल दिए थे और स्नान को चली गई थी और जब भगवान् शिव माता पार्वती से मिलने के लिए आये तो उस बालक ने उन्हें अन्दर जाने नहीं दिया. क्रोध में आकर शंकर जी  ने उस बालक ( गणेश जी ) का सिर काट दिया था. बाद में माता पार्वती का क्रोध शांत करते हुए उन्होंने एक हाथी का शीश उस बालक को लगा दिया था. लेकिन आज हम इस कथा का एक और पहलू आपके सामने प्रस्तुत करने जा रहे है जो ब्रह्मवैवर्त पुराण से हैं.

 

भगवान शंकर से मिले आये थे शनिदेव

एक बार की बात है भगवान् शंकर केलाश में ध्यान मग्न बैठे थे ऐसे में उनसे मिलने के लिए उनके शिष्य सूर्य पुत्र शनिदेव आये. अपने गुरु को ध्यान मग्न देखकर शनिदेव ने सोचा क्यों न माता पार्वती के दर्शन कर लिए जाए. ऐसा सोचते हुए भगवान शनि माता पार्वती के पास पहुंचे , जहाँ माता पार्वती अपने पुत्र गणेश के साथ में बैठी थी. माना जाता है कि भगवान गणेश इतने सुन्दर थे कि उनको देखने मात्र से ही सारे कष्ट दूर हो जाते थे. लेकिन माता से भेट करने आये शनि आंखे निचे कर माता से बात कर रहे थे, यहाँ बात माता ने भाप ली और उन्होंने शनि से आँखे झुकाने का कारण पूछा.

 

शनिदेव के देखते ही कट गया भगवान गणेश का गला

माता ने जब शनिदेव से नजरे झुकाने का कारण पूछा तो शनिदेव ने बताया कि उन्हें श्राप मिला है कि वे जिसकी और देखेंगे उसका विनाश होगा, उन्होंने इसका कारण बताते हुए माता से कहा कि एक बार उनकी पत्नी ऋतुकाल से लौटकर उनसे मिलने आई थी और उस समय वे भगवान शंकर के ध्यान में थे यह बात उनकी पत्नी को अपमानजनक लगी और परिणाम स्वरूप उन्हें श्राप मिला. शनिदेव की बाते सुनकर माता पार्वती ने कहा कोई बात नहीं तुम मेरे पुत्र को देख सकते हो, इसे देखने से सारे कष्ट दूर हो जाते हैं. माता पार्वती की आज्ञा का पालन करते हुए शनिदेव ने तिरछी नजर से जैसे ही गणेश जी को देखा उनका सिर धड से अलग होकर जमीं पर गिर गया. बाद में भगवान् विष्णु ने एक हाथी के बच्चे का सिर गणेश जी को लगाया.

मजेदार खबरों के लिए हमें फॉलो करे..

 

ये भी पढ़े

जब विष्णु जी हुए माता लक्ष्मी से नाराज, बना दिया किसान के घर की नौकरानी

कभी आपने सोचा है, भगवान श्रीकृष्ण की मृत्यु कैसे हुई थी ?

क्या आपको पता है ‘नारियल’ का जन्म कैसे हुआ ?