Entertainment

अमजद को सलीम-जावेद नहीं बनाना चाहते थे गब्बर सिंह, जानिए क्यों

बॉलीवुड की सबसे बेहतरीन फिल्मो में से एक फिल्म शोले जहाँ आज तक अपनी कहानी और अपने किरदारों को लेकर चर्चाओ में रहती हैं. वैसे रमेश सिप्पी की इस फिल्म को बनने में जहाँ काफी समय लगा वहीँ फिल्म की स्टार कास्ट को लेकर भी काफी फेरबदल हुए. आपको फिल्म में अमजद खान द्वारा निभाए गए गब्बर सिंह का किरदार तो याद होगा. यह किरदार आज तक याद किया जाता हैं, और इस किरदार ने विलन को अलग श्रेणी में लाकर खड़ा कर दिया था. गब्बर सिंह के किरदार को आज भी लोग याद करते हैं. लेकिन आज हम आपको फिल्म शोले के इस किरदार से जुडी एक बड़ी ही मजेदार कहानी बताने जा रहे हैं.

 

गब्बर सिंह के रोल के लिए अमजद नहीं थे पहली पसंद

फिल्म शोले की कहानी सलीम जावेद ने लिखी थी, वे एक ऐसी कहानी का निर्माण कर रहे थे जिसमे कई सारे कलाकार हो, और फिल्म का परिद्रश्य एक गाँव के इर्द गिर्द घूमता हो. ऐसे में शोले की कहानी लिखी गई, इस फिल्म की कहानी को लिखने के बाद फिल्म के निर्माता फिल्म की स्टार कास्ट की खोज में लग गए. फिल्म में जहाँ कलाकारों के चयन में समय लगा, वहीं फिल्म के चर्चित किरदार गब्बर सिंह को लेकर फिल्म के निर्माता-निर्देशक और लेखक काफी चिंतित थे. दरअसल इस फिल्म में गब्बर सिंह के किरदार के लिए अमजद खान का चयन किया गया, लेकिन फिल्म के लेखक सलीम-जावेद के अनुसार अमजद खान की आवाज में वो दम नहीं था जो डाकू गब्बर सिंह के किरदार के लिए जरुरी हैं. ऐसे में फिल्म में गब्बर के किरदार के लिए दुसरे कलाकार की खोज की जाने लगी.

 

डेनी निभाते गब्बर का किरदार

जब फिल्म के लेखक और निर्माता फिल्म में गब्बर सिंह के किरदार का निर्माण कर रहे थे तो उनकी पहली पसंद डेनी डाँगजप्पा थे. लेकिन उस समय डेनी फिरोज खान की फिल्म धर्मात्मा की शूटिंग में व्यस्त थे. फिल्म धर्मात्मा की शूटिंग साउदी में चल रही थी और डेनी अपनी डेट फिरोज खान को दे चुके थे. ऐसे में फिल्म शोले डेनी के हाथ से निकल गई और यह भूमिका मिली अमजद खान को. अमजद उस समय बॉलीवुड में नए नए थे और उन्हें इस फिल्म की बहुत जरुरत थी. फिल्म शोले ने अमजद खान को बुलंदियों पर ला कर खड़ा कर दिया. यह किरदार इतना मशहूर हुआ की अमजद को लोग गब्बर सिंह के नाम से ही जानने लगे. आज भी यह किरदार काफी लोकप्रिय हैं.