न ताले, न दरवाजे फिर भी नहीं हुई इस गांव में कभी चोरी, ऐसी हैं शनिदेव की महिमा

अधुनुकता के इस दौर में जहाँ हम अपने जरूरती सामानों की सुरक्षा के लिए नए तरह के साधनों का इस्तेमाल करते हैं, साथ ही में हम अपने जरूरती साधनों का विशेष ध्यान भी रखते हैं , ऐसे में भारत में एक ऐसा स्थान हैं जहाँ पर घरो में ताले तक नहीं लगते. जी हाँ सही सुना आपने, महाराष्ट्र का शनि शिंगणापुर एक मात्र ऐसा गाँव हैं देश में जहाँ पर चोरी की घटना कभी नहीं हुई. यह गाँव शनि महाराज के गाँव के नाम से मशहूर हैं, जहाँ शनिदेव का एक मंदिर हैं. इस गाँव में हजारो घर हैं जो बिना ताले और बिना घर के दरवाजो के सालो से रह रहे हैं पर कभी भी चौरी जैसी घटनाएं नहीं हुई.

 

कुण्डी और कड़ी का भी नहीं होता इस्तेमाल

महाराष्ट्र के अहमदनगर से करीब 35 किलो मीटर की दुरी पर शनिदेव के इस मंदिर में भगवान् बिना छत के विराजमान हैं, जहाँ उनके आसपास न कोई पहरा हैं और न कोई छत, बस है तो खुला आसमान. इस गाँव के बारे में मान्यता हैं कि लगभग 3 हजार की जनसख्या वाले इस गाँव में किसी भी नगर वासी के घर में न ताला हैं और न ही दरवाजे, इतना ही नहीं यहाँ तो लोगो के घर में कुण्डी तक नहीं हैं और वहीं लोग अलमारी और सूटकेस तक का इस्तेमाल नहीं करते हैं. यहाँ के लोग अपने कीमती सामन और जेवरात को भी थेलियो में रखते हैं. लोगो की मान्यता हैं कि यह् सब शनिदेव की आज्ञा से होता हैं.

 

शनिदेव का है प्रताप

आपको बता दे कि शनि शिगंणापुर देश के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक हैं जहाँ रोल हजारो की तादात में श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं. वहीं शनि जयंती पर यह तादात लाखो में पहुँच जाती हैं. लोगो का मानना हैं कि यहाँ शनि देव का प्रताप हैं इसी कारण आज तक इस गाँव में चौरी नहीं हुई हैं. यहाँ तक कि यहाँ आने वाले पर्यटक भी कभी अपनी गाडियों में लॉक नहीं लगाते, वहीं शनिदेव के इस मंदिर में उनके दर्शन करने से सारी दरिद्रता, परेशानी और दुखो का समाधान होता हैं.