गणेश चतुर्थी : इन चीजों के बिना अधूरी है भगवान गणेश जी की पूजा, जानिए

13 सितंबर से पूरे हिंदुस्तान में गणेश चतुर्थी की पूजा आरंभ हो रही है। भगवान गणेश जी के पावन पर्व पर भारत के हर कोने में जोरो सोरो से गणेश जी को विराजित करते है।  इसमें लोग 10 दिनों तक अपने-अपने घरों में गणेश भगवान की मूर्ति रखेंगे और उनकी पूजा करेंगे। लोग 10 दिनों तक गणेश भगवान गणेश की भक्ति में विलीन हो जाते है। बच्चों से लगाकर बुजुर्ग तक भगवान की सेवा में लगे रहते है। मूलरूप से तो ये त्योहार महाराष्ट्र का है लेकिन फिल्मों और सीरियल्स को देखने के बाद अब इसे पूरे भारत में मनाया जाने लगा है।

ऐसा कहा जाता है कि यदि गणेश जी की पूजा अगर उन चीजों के बिना करो तो वो पूजा अधूरी मानी जाती है। यदि कोई भी व्यक्ति गणेश जी सेवा सच्चे मन से करता है तो वह अपने भक्तों की दुःखों  को दूर कर देते है उनका जीवन खुशियों से भर देते है क्योंकि गणेश जी विघ्नहर्ता है।

आइए जानते है कि गणपति बप्पा की पूजा अर्चना पूजा में क्या-क्या चीज मुख्य रूप से शामिल करनी चाहिए इस बात का ख्याल भी हमें विशेष रूप से रखना होता है.

1. हरी दूर्वा

गणेश चतुर्थी के दिन यदि गणपत्ति जी की पूजा हरी धूप से करें तो गणेश जी इससे अधिक प्रसन्न होते हैं। गणेश जी को पूजा के समय हरी धूप जरूर अर्पण करना चाहिए। इससे आपके सभी काम सफल होते है।

2. श्रीफल


भगवान गणेश को श्रीफल यानिकि नारियल अधिक प्रसंद है। इसलिए गणेश भगवान को गणेश चतुर्थी की पूजा के दौरान श्रीफल जरूर चढ़ाएं, आपको इसका फायदा जरूर मिलेगा।

3. मोदक


भगवान गणेश को मोदक यानी लड्डू बहुत ज्यादा पसंद है, यह बात सामान्यतः सभी को पता होगी। बिना लड्डू के बिना गणेश की पूजा पूर्ण रूप से अधूरी मानी जाती है इसलिए सभी भक्त गणेश जी को लड्डू का प्रसाद अनिवार्य रूप चढ़ाते है। लड्डू के प्रसाद से प्रसन्न होकर गणेश जी आपकी हर मनोकामना पूर्ण करते हैं।

4. हल्दी

हल्दी को हिन्दू धर्म में काफी हल्दी को शुभ का माना जाता है और गणेश भगवान की पूजा भी हर शुभ काम शुरु करने से पहले की जाती है। इसके अलावा भगवान गणेश को पीला रंग बहुत पसंद है और उनकी पूजा में हल्दी अगर हल्दी को विशेष स्थान दिया जाए तो बहुत अच्छा होता है. कच्ची हल्दी के साथ पीला धागा और पीला फूल जरूर शामिल करें, इससे आपकी पूजा जरूर सफल होगी.