यें थी कटप्पा के चरित्र की विशेषता, क्या आपमें भी हैं वो गुण जानिए

0
8

निर्देशक एस एस राजामौली के निर्देशन में बनी फिल्म बाहुबली अपने दोनों भाग के चलते विश्व प्रसिद्ध हो गई हैं, फिल्म के दुसरे भाग ने तो भारत में ही नहीं बल्कि पुरे विश्व में धमाकेदार बिजनेस किया. जहाँ फिल्म ने इतनी सफलता हांसिल की वही फिल्म के किरदारों ने लोगो के दिल में जगह बानाइ. फिल्म बाहुबली जहाँ हिंदी संस्कृति का एक सर्वश्रेष्ठ उदहारण बनी वहीं फिल्म के पात्रो ने भी लोगो के दिलो में अपनी विशेष जगह बनाई, ऐसे में आज हम फिल्म बाहुबली के किरदार कटप्पा के चरित्र के विषय में बात कर रहे हैं जो अपने राज्य के लिए कुछ भी करने को तैयार था. आपको बता दे कि कटप्पा के किरदार को साऊथ के जाने माने अभिनेता सत्यराज ने निभाया था.

 

राज्य भक्त

कटप्पा महिष्मती सम्राट का वफादार था, वह राज्य के लिए कुछ भी करने को तैयार था. फिल्म में वह अपनी राज्यभक्ति को इसी तरह दिखाते हुए राजा भाल्लालदेव की आज्ञा का पालन करते हुए अमरेन्द्र बाहुबली को मार देता है. साथ ही में वहा यह जानते हुए भी की उनका राजा गलत हैं, फिर भी वहा राज्य के प्रति पूरी श्रद्धा और लगन के साथ में काम करता हैं.

 

वफादार

कटप्पा एक वफादार सैनिक था, महिष्मति के प्रति पूरी निष्ठा और ईमानदारी के साथ में जुडा था. वह माता शिवगामी देवी की आज्ञा का पालन बिना कुछ प्रश्न किये कर देता हैं, फिल्म में वहा राजमाता की आज्ञा का पालन करते हुए बाहुबली को मार देता हैं. इसके साथ ही जब उसे पता चलता हैं कि बाहुबली का वरिश जिन्दा हैं जो कि असल में महिष्मति का सम्राट हैं तो वह भाल्लालदेव का विरोध कर देता हैं.

 

निडर और बहादुर

कटप्पा महिष्मति का एक बहादुर सैनिक था, जो तलवार बाजी, घुड़सवारी, लाठ बाजी और युद्ध के समय सेना का सञ्चालन करने जैसी कलाओं में महारथ रखता था. वह अकेला 100 लोगो पर भारी था. फिल्म बाहुबली 2 के एक सीन के दौरान कटप्पा अमरेन्द्र बाहुबली के साथ में मिलकर पिंडारी की सेना के साथ में युद्ध करता हैं, जिसमे जीत कटप्पा और बाहुबली की ही होती हैं.