लेब असिस्टेंट थे अशोक कुमार, जानिए कैसे बने सुपरस्टार दादा मुनि

0
20

बॉलीवुड में 60 के दशक में सिगार फुक्नते हुए एक अभिनेता दर्शको के दिल पर राज करता था, और लोग भी अपने इस प्यारे अभिनेता के हर स्टाइल को पसंद करते थे.यह अभिनेता कोई और नहीं बल्कि हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में दादा मुनि के नाम से मशहूर सुपरस्टार अशोक कुमार थे. अशोक कुमार का फ़िल्मी सफ़र काफी लम्बा रहा, उन्होंने अपने करियर में ढेरो सुपरहिट फिल्मो में काम किया. लेकिन अशोक कुमार की फिल्मो में आने की कहानी काफी मजेदार रही. मध्यप्रदेश के खंडवा में रहकर पढ़ाई करने वाले अशोक कुमार एक लेबोरेट्री असिस्टेंट थे, आइये जानते हैं एक लेब असीसटेंट से अशोक कुमार कैसे बने एक बॉलीवुड स्टार.

 

साइंस में ग्रेजुएशन कर चुके थे अशोक

3 अक्टूबर 1911 को भागलपुर में जन्मे अशोक कुमार ने अपनी प्रारंभिक पढाई मध्यप्रदेश के खंडवा जिले में की थी. वे अपने भाई बहनों में सबसे बड़े थे, साइंस से ग्रेजुएशन करने के बाद वे न्यू थिएटर मे बतौर लेबोरेट्री असिस्टेंट के रूप में काम करने लगे थे. यही काम अशोक कुमार की जीविका का साधन था और अपने इस काम से वे काफी खुश भी थे. अशोक कुमार की एक ही बहन थी जिंनकी शादी  शशधर मुखर्जी से  हुई थी.  शशधर मुखर्जी से अशोक के दोस्त थे, उन्होंने ही अशोक को अपने पास बाम्बे टॉकीज में काम करने के लिए बुलाया था. जहाँ भी अशोक कुमार लेबोरेट्री असिस्टेंट के रूप में कार्य करने लगे थे.

 

लेबोरेट्री असिस्टेंट से अशोक बने अभिनेता

जहाँ बाम्बे टॉकीज में काम कर अशोक अपनी जीविका चला रहे थे, वहीं फिल्मो में काम करने का सपना उनके मन में बचपन से था, लेकिन वो बतौर निर्देशक फिल्मो में काम करना चाहते थे. अशोक का फिल्मो में काम करने का सपने एक दिन इत्तेफाक से पूरा हुआ जब बॉम्बे टॉकीज स्टूडियो की फिल्म ‘जीवन नैया’ के मुख्य अभिनेता नज्म उल हसन की तबियत अचानक से बिगड़ गई, एसे में स्टूडियो के मालिक फिल्म के लिए मुख्य अभिनेता की तलाश करने लगे . तभी उनकी नजर अशोक पर पड़ी और उन्होंने अशोक को फिल्म ऑफर कर दी, अशोक कुमार ने भी इस मौके को अपने हाथ से जाने नहीं दिया और बन गए फिल्म के नायक. इसके बाद तो अशोक ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. अपने करियर में अशोक कुमार ने शौकीन, खुबसुरत, असली नकली, दो मुसाफिर और दो फुल जैसी ढेर सारी सुपरहिट फिल्मो में काम किया. 10 दिसंबर 2001 को चेम्बूर मुंबई में दादा मुनि का निधन हो गया.